मोदी ने कहा भारत में है दम कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं चाहिए |

मोदी ने कहा भारत में है दम कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं चाहिए |

दिल्ली : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक दावे ने दुनिया भर को चौका दिया है| पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ मुलाकात के बाद सोमवार को ट्रंप ने अपने विवादित बयान में बोला है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर मुद्दे पर उनसे मध्यस्थता करने के लिए कहा था| भारत सरकार ने हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस विवादास्पद दावे को सिरे से खारिज कर दिया है। भारत का कहना है कि कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है।
ट्रंप के इस विवादास्पद बयान के बाद सदन में ज़ोरदार हंगामा हुआ| विपक्षी पार्टियों ने इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से संसद में स्पष्टीकरण देने की मांग की| कांग्रेस ने लोकसभा में काम रोको प्रस्ताव भी पेश कर दिया| हालांकि विपक्ष के भारी हंगामे पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सफाई दी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने अमेरिका के राष्ट्रपति से इस तरह की कोई अपील नहीं की है। कश्मीर मसले पर पाकिस्तान से सिर्फ द्विपक्षीय वार्ता हो सकती है और वह भी सीमा पार से होने वाली आतंकी गतिविधियों पर रोक लगने के बाद संभव है लेकिन विपक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जवाब की मांग करता रहा|
वहीं भारतीय विदेश मंत्रालय ने ट्रंप के इस दावे को खारिज कर दिया है कि प्रधानमंत्री मोदी ने कश्मीर मुद्दे पर उनसे मध्यस्थता करने का आग्रह किया है। मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने साफ कहा, कश्मीर भारत और पाकिस्तान का द्विपक्षीय मुद्दा है और इस पर तीसरे पक्ष का कोई दखल मंजूर नहीं किया जा सकता। रविश कुमार ने कहा, भारत और पाकिस्तान के बीच सभी मुद्दे शिमला समझौते और लाहौर घोषणापत्र के आधार पर ही हल किए जा सकते हैं।