।सुषमा स्वराज के सम्मान में उत्तराखंड में एक दिन का राजकीय शोक घोषित

।सुषमा स्वराज के सम्मान में उत्तराखंड में एक दिन का राजकीय शोक घोषित

अंतिम ट्वीट मैं जीवन भर इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थी

 
मुख्यमंत्री–  त्रिवेन्द्र ने मीडिया से अनौपचारिक वार्ता करते हुए कहा कि सुषमा  स्वराज अब हमारे बीच में नहीं हैं।यह देश के लिए अपूरणीय क्षति है।सुषमा स्वराज के सम्मान में उत्तराखंड में एक दिन का राजकीय शोक घोषित तो दिल्ली सरकार ने सुषमा स्वराज के सम्मान में दो दिन का राजकीय शोक घोषित किया हैं। जम्मू कश्मीर से धारा 370 को हटाने के लिए लम्बी लड़ाई लड़ी गई। इसमें उनका भी महत्वपूर्ण योगदान रहा। धारा 370 हटने के बाद उन्होंने ट्वीट किया कि ‘‘प्रधानमंत्री जी आपका अभिनंदन। मैं जीवन भर इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थी।’’यह उनका अंतिम ट्वीट था। उनका उत्तराखण्ड से विशेष लगाव था। सुषमा स्वराज  उत्तराखण्ड से राज्यसभा सांसद भी रहीं। प्रदेश को ऋषिकेश एम्स उनकी ही देन है। अटल बिहारी वाजपेयी जब भारत के प्रधानमंत्री थे, उस समय स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए सुषमा  सुषमा स्वराज ने ही एम्स ऋषिकेश की नींव रखी थी।